शनिवार, 5 दिसंबर 2009

एक वक़्त के बाद

नजरिया बदल जाता है एक वक़्त के बाद;
नयी सीख मिलती है हर शिकश्त के बाद....


दर्द आँखों से बह जाए तो अछा होगा;
नहीं तो नासूर हो जाता है वो ज़ब्त के बाद....

कोई टिप्पणी नहीं: