गुरुवार, 10 दिसंबर 2009

निभाए जा रहा है...

कोई दर्द है जो उसको खाए जा रहा है
कोई राज़ वो सबसे छिपाए जा रहा है....

कुछ नहीं बाकी है इस रिश्ते में फिर भी
कुछ बात तो है जो निभाए जा रहा है....

हर कोशिश नाकाम हुई है अब तक, कि ये
उसका सब्र है की कुछ नया आजमाए जा रहा है...

दिल ही दर्द देता है और दुआ भी"शाहिद"
ये बात बारहा दोहराए जा रहा है...

4 टिप्‍पणियां:

eddie ने कहा…

pucheye usse kyu wo chipaye ja raha hai,
cha.h kar bhi wo apko kyu nahi bata pa raha hai...

kuch to kasur aapka bhi hoga,
bina wajah nahi wo roe.ya hoga....

kha.ke kaise dhoka wo muskurae.ga,
dost se gum ko nahi wo seh.payega...

karna he hai to majburi bata dejeye
nahi to khud usse daf.na dejeye...

bas bahut du.a di tune "shahid"
de sakta hai to apna naam de.de


2 din hue aapke blog ko dekhe hue....shahid bhai aap bahut khub likhate hai...kal aapki burae ki to socha aaj apki post ka main khud jawab de du....bataee.yega kaisa raha aur galti sudha.eeyga.....waise to main sirf padhta hu, par aaj pehle dafa likh bhi diya

Shahid Ansari ने कहा…

hamari wajeh se pehli dafa likhne ka shukriya..

अर्चना तिवारी ने कहा…

ब्लॉग पर आने का बहुत-बहुत शुक्रिया...सुंदर एवं बेहतरीन रचना

Shahid Ansari ने कहा…

@ archana tiwari , izzat afzai ka shukriya...