बुधवार, 17 अगस्त 2011

.........

ख्वाबों की रहगुज़र में बहुत दूर जा बसे;



कोई टिप्पणी नहीं: