बुधवार, 13 अप्रैल 2011

पता है आज बहुत बुरा दिन है

इतना बुरा कि क़यामत भी शरमा जाए

मगर बस फर्क इतना है कि आज का दिन हमेशा 
नहीं रहने वाला

कल फिर सुबह होगी 
 

2 टिप्‍पणियां:

: केवल राम : ने कहा…

मगर बस फर्क इतना है कि आज का दिन हमेशा
नहीं रहने वाला
कल फिर सुबह होगी

आशा का संचार करती रचना सुंदर है ...आशा है अप अपने नियमित लेखन से ब्लॉग जगत को समृद्ध करेंगे ..शुभकामनाओं सहित

Shahid Ansari ने कहा…

dhanyawad.!